माल्या की गिरफ्तारी के लिए स्टेट बैंक ने लगाई अर्जी

माल्या की गिरफ्तारी के लिए स्टेट बैंक ने लगाई अर्जी

नई दिल्ली। किंग ऑफ गुड टाइम्स कहे जाने वाले विजय माल्या पर गिरफ्तारी की तलवार लटक गई है। उनकी गिरफ्तारी की मांग खुद एसबीआई ने की है और उनका पासपोर्ट जब्त करने की मांग की है। दूसरी ओर दिल्ली हाई कोर्ट ने भी विलफुल डिफॉल्टर मामले में माल्या और यूबी होल्डिंग की अर्जी पर सुनवाई से इनकार कर दिया है।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने बैंगलुरु डेट रिकवरी ट्रिब्यूनल में अर्जी देकर मांग की है कि विजय माल्या को गिरफ्तार किया जाए। एसबीआई ने माल्या की सभी संपत्तियों के खुलासे और उनका पासपोर्ट जब्त करने की मांग भी की। गौरतलब है कि एसबीआई पहले ही विजय माल्या को विलफुल डिफॉल्टर घोषित कर चुका है। विजय माल्या पर किंगफिशर का 7800 करोड़ रुपये का कर्ज है। एसबीआई का विजय माल्या पर 1600 करोड़ रुपये का कर्ज है।

इससे पहले बुधवार को सीबीआई डायरेक्टर अनिल कुमार सिन्हा ने एनपीए के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने की मांग की है। मुंबई में एक इवेंट के दौरान अनिल कुमार ने बैंकों और आरबीआई पर निशाना साधते हुए कहा कि आज लोगों के मन में ये धारणा बन गई है कि अमीर लोग बड़े लोन लेकर उसे चुकाए बिना, आजादी से घूम सकते हैं। उन्होंने किंगफिशर मामले का उदहारण भी दिया और कहा कि सीबीआई को खुद ही कदम उठाना पड़ा क्योंकि आरबीआई या बैंकों की ओर से कंपनी की कोई शिकायत ही नहीं आई।

माना जा रहा है कि अब कर्ज वसूली में सीबीआई बैंकों की मदद करेगी। सीबीआई और बैंकों का एक ग्रुप बनेगा और नियमित बैठकों में डिफॉल्टरों की समीक्षा होगी। वहीं देना बैंक के सीएमडी अश्विनी कुमार ने भी कहा है कि कर्ज की रिकवरी और जान-बूझकर डिफॉल्ट करने वालों को पकड़ने के लिए मिलकर काम करेंगे।

loading...