भारत में महामारी की तरह बढ़ रहा है मोटापा और डायबीटीज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे.पी. नड्डा ने गुरुवार को देश में मोटापा संबंधी आंकड़े जारी किए। उन्होंने बताया कि देश में सबसे ज्यादा मोटे पंजाब के लोग हैं। त्रिपुरा के पुरुष सबसे दुबले और मेघालय की स्त्रियां सबसे दुबली हैं।

500x500x407-obesity-and-diabetes-01.jpg.pagespeed.ic.DRFNyEk5_z

मंत्री ने बताया कि 20 से 79 साल के आयुवर्ग के लोगों में डायबीटीज का सबसे अधिक प्रसार हो रहा है और करोड़ों लोग इसके शिकार हैं। डायबीटीज के मामले में पंजाब के पुरुष और स्त्रियों के बाद केरल और दिल्ली का नंबर आता है।

पंजाब के 22.2, केरल के 17.8 और दिल्ली के 16.6 फीसदी पुरुषों ने बीएमआइ (मोटापा नापने का पैमाना बॉडी मास इंडेक्स) 25 से ज्यादा होने की बात कही है। इसी तरह पंजाब की 29.9, केरल की 28.1 और दिल्ली की 26.4 फीसदी महिलाओं ने बीएमआइ 25 से ज्यादा होने की जानकारी दी है।

सदन में पेश आंकड़ों के मुताबिक, बिहार और मेघालय को छोड़ हर जगह की महिलाओं का वजन मर्दों की अपेक्षा ज्यादा है। त्रिपुरा में केवल 4.8 फीसदी पुरुष मोटे और 7.1 फीसदी महिलाएं मोटी हैं।

स्वास्थ्य मंत्री के आंकडमें का समर्थन करते हुए, डॉ. कपिल अग्रवाल, बरियट्रिक सर्जन, पुष्पावती सिंघानिया रिसर्च इंस्टीट्यूट एवं यशोदा हॉस्पिटल, गाजियाबाद ने कहा कि मोटापा बढ़ाने के साथ डायबीटीज का खतरा भी बढ़ जाता है। साथ ही उच्च रक्तचाप, हृदय रोग तथा कुछ तरह के कैंसर होने की संभावना भी बढ़ जाती है। जब बॉडी मास इंडेक्स 21 से ज्यादा बढ़ना शुरू होता है तो इन सभी बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है।

शोध के मुताबिक, मोटापे से जान को भी खतरा हो सकता है, सामान्य से 10 किलो अधिक वजन बढ़ने के साथ ही इंसान की जीवन जीने की क्षमता में तीन वर्ष तक की कमी हो जाती है।

डॉ. कपिल अग्रवाल बताते हैं कि अब बेरियाट्रिक सर्जरी के द्वारा डायबीटीज को नियंत्रित करना संभव है। इतना ही नहीं जिनका बीएमआई 32 तक भी होता है उनमें से 80 प्रतिशत को डायबीटीज व मोटापे से छुटाकारा मिला है।

बेरियाट्रिक सर्जरी मोटापे से मुक्ति तथा मोटापे से जुड़ी अन्य बीमारियों जैसे कि टाइप टू डायबीटीज व हाइपरटेंशन आदि से छुटकारा पाने का कारगर उपाय है।

loading...