गर्मियों में पसीने की दुर्गंध से ऐसे मिलेगी निजात

loading...

गर्मियां शुरू हो चुकी हैं। उसके साथ ही गर्मियों की सबसे बड़ी परेशानी लोगों को परेशान भी करने लगी है। जिसका नाम है पसीने से आने वाली दुर्गंध, जो हर इंसान को गर्मी में बहुत परेशानी करती है। देखा गया है कि कई बार गर्मी के कारण शरीर से उत्पन्न होने वाले पसीने से इतनी दुर्गंध आती है जिसके चलते कई बार लोगों को सभी के बीच में शर्मिंदगी तक उठानी पड़ जाती है। आपको भी कभी ना कभी ये समस्या जरूर सताती होगी। जिसके चलते आपको लोगों के सामने अच्छा नहीं लगता होगा। आज हम आपकी इसी समस्या को देखते हुए कुछ ऐसे टिप्स लेकर आए हैं जिनसे आपको झुलसती गर्मी में पसीने से होने वाली दुर्गंध के कारण शर्मिंदगी नहीं उठानी पड़ेगी। तो चलिए जानते हैं गर्मियों में पसीने से आने वाली दुर्गंध से कैसे पाएं निजात-

स्किन को सूखा रखें-

ये तो सभी के साथ होता है कि गर्मी में पसीना सबसे अधिक आता है। जिसके कारण पसीने से बदबू आना लाजमी है, लेकिन इसकी भयंकर दुर्गंध का सामना हमें तब ज्यादा होता है जब पसीना बैक्टीरिया के सम्पर्क में आ जाता है। इसके लिए सबसे जरूरी है कि आप जितना ज्यादा से ज्यादा हो सके अपनी स्किन को ड्राई मतलब सूखा और साफ रखने की कोशिश करें क्योंकि गीलेपन से बैक्टीरिया ज्यादा जन्म लेते हैं। बॉडी के ड्राई रहने पर इनके जन्म लेने की संभावना काफी कम हो जाती है। जिससे आप शरीर में उत्पन्न होने वाले पसीने की दुर्गंध से निजात पा सकते हैं।

loading...
1IMAGE SOURCE: HTTP://PH.THEASIANPARENT.COM/

डियोड्रेंट और परफ्यूम

 

गर्मियों के दिनों में पसीने से होने वाली दुर्गंध को रोकने के लिए आपको हमेशा अपने साथ डियोड्रेंट रखना चाहिए क्योंकि डियोड्रेंट बेशक बार-बार आपके शरीर से आने वाले पसीने को रोक ना सकता हो लेकिन वह कुछ समय तक इसकी दुर्गन्ध को रोकने में काफी कारगर उपाय है। वहीं, आपको बता दें कि आजकल बाजारों में कई बड़ी कंपनियों के डियोड्रेंट भी हैं जो पूरा-पूरा दिन आपको पसीने से होने वाली दुर्गंध से निजात दिला सकते हैं। डियोड्रेंट के बारे में अगर आपको नहीं पता है तो बता दें कि यह शरीर में लगते ही दुर्गंध आने वाले रोम छिद्रों को बंद कर देता है। जिसके कारण पसीना आना कम हो जाता है और शरीर पसीने से होने वाली दुर्गंध से बचा रहता है।

नहाना

ऐसा कई लोगों के साथ होता है कि उन्हें गर्मियों में पसीना ज्यादा आता है। आप में से बहुत से लोगों को झुलसती गर्मी में ज्यादा पसीना आने के कारण कई बार नहाना पड़ता होगा, लेकिन अगर आपको लगता है कि कई बार नहाने के बाद भी आपके शरीर से पसीने की दुर्गंध आनी थोड़ी देर बाद शुरू हो जाती है तो आपको अपने नहाने वाले पानी में बेकिंग सोडा डालकर नहाना चाहिए। इससे आपको पसीने से होने वाली दुर्गंध से काफी आराम मिलेगा।

nhanaIMAGE SOURCE: HTTP://MEDIA.FEMINIS.RO/

अंडरआर्म का रखें खास ख्याल

बांहों के नीचे का बॉडी पार्ट जिसे अंडरआर्म कहा जाता है यह शरीर का वह हिस्सा होता है जहां गर्मियों में सबसे ज्यादा पसीना आता है। पसीना ही नहीं इस जगह पर पसीना आने से सबसे ज्यादा दुर्गंध भी आती है। ऐसे में देखा जाता है कि कई बार तो पसीने के कारण लोगों के कपड़े भी इस जगह खराब हो जाते हैं। इसलिए अगर आप चाहते हैं कि आपको पसीने से होने वाली दुर्गंध के कारण शर्मिंदगी का शिकार ना होना पड़े तो ध्यान रखें कि अपनी अंडरआर्म्स को सूखा कर रखें या फिर किसी कपड़े से अपनी बाहों के नीचे के हिस्से को किसी साफ कपड़े से साफ करते रहें। वहीं अगर इसके अलावा भी आपको इस समस्या से निजात नहीं मिल पा रही है तो आप किसी डॉक्टर से कंसल्ट कर सकते हैं।

2IMAGE SOURCE: HTTP://DOUBLEINFINITYNETWORKS.COM/

दवाई और खानपान

 

आपने भी देखा होगा कि त्वचा से संबंधित कई बीमारियों का उपचार आप खान-पान में परहेज से ही कर सकते हैं। ऐसा ही कुछ पसीने से होने वाली दुर्गंध के साथ है। आप अगर इन गर्मियों में पसीने से होने वाली दुर्गंध से बचना चाहते हैं तो अपने खान-पान में तली हुई और मसालेदार चीजों को निकाल दें। मसालेदार और तली हुई चीजों की तासीर काफी गर्म होती है। आपको बता दें कि गर्मियों में हल्का खाना खाएं और काली मिर्च की चाय, सामान्य चाय, कॉफी का इस्तेमाल भी कम से कम करें। इससे आप पसीने से शरीर में उत्पन्न होने वाली समस्याओं से निजात पा सकेंगे।

डॉक्टर्स की हेल्प

कई लोगों को गर्मी में ज्यादा पसीना आता है तो किसी को कम। ऐसे में कई लोगों में पसीने से उत्पन्न होने वाली समस्या काफी गंभीर बन जाती है। इसके लिए आपको किसी डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए। वैसे देखा गया है कि ज्यादातर डॉक्टर्स ऐसे लोगों को योणोगिनेसिस की सलाह देते है। योणोगिनेसिस एक ऐसी तकनीक है जो हाथ, पैर और बगल में आने वाले हिस्से को पसीने से रहित कर देती है। इस तकनीक में इलाज के लिए इलेक्ट्रिक करंट का सहारा लिया जाता है। साथ ही इसका प्रयोग एक बार में ही सफल हो जाता है। जिससे कई महीनों के लिए तलवों और हथेलियों तक में आने वाले पसीने की समस्या समाप्त हो जाती है।

loading...