जीवन की मुश्किलों से छुटकारा पाने हेतु चाणक्य की इन नीतियों पर करें अमल

loading...

2016_8image_09_06_087791880chankya-ll

आचार्य चाणक्य एक महान दार्शनिक अौर राजनितिक मार्गदर्शक थे। उन्होंने मौर्य साम्राज्य की नीवं रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने सुखी और श्रेष्ठ जीवन के लिए कई नीतियां बताई हैं। आज भी यदि इन नीतियों का पालन किया जाए तो हम कई परेशानियों से बच सकते हैं। आइए जाने आचार्य चाणक्य की 7 ऐसी नीतियां जो जीवन में सदैव काम आ सकती हैं। इन नीतियों पर अमल करके जीवन की मुश्किलों से छुटकारा पाया जा सकता है।

loading...

 

* जो व्यक्ति आपके सामने मीठी बातें करता है और पीठ पीछे कार्य में बाधा उत्पन्न करता है, ऐसे मित्रों को त्याग देना चाहिए। ऐसे मित्र उस पात्र के समान है, जिसके ऊपर के भाग में दूध दिखाई देता है और अंदर जहर से भरा होता है।

 

* मूर्ख व्यक्ति के समान यौवन भी कष्टकारी होता है क्योंकि इस उम्र में व्यक्ति कामवासना के कारण मूर्खतापूर्ण कार्य कर बैठता है।

 

* जिस प्रकार सभी पहाड़ों पर मणि की प्राप्ति नहीं होती, सभी हाथियों के माथे में मोती पैदा नहीं होता, सभी वनों में चंदन के पेड़ उत्पन्न नहीं होते उसी प्रकार सभी स्थानों पर सज्जन पुरुष नहीं मिलते।

 

* व्यक्ति के लिए संतुलित दिमाग की भांति सादगी, संतोष की तरह सुख, लालच जैसा दोष अौर दया की तरह कोई पुण्य नहीं होता है।

 

* किसी भी कार्य को शुरु करने से पूर्व उसको असफलता के भय से न छोड़ें। जो व्यक्ति ईमानदारी से कार्य करता है वह सदैव खुश रहता है।

 

* अच्छे स्वभाव वाले व्यक्ति को किसी अन्य गुण अौर प्रसिद्ध को श्रृंगार की आवश्यकता नहीं होती।

 

* इस बात को जाहिर न होने दें कि आप क्या करने का सोच रहे हैं। बुद्धिमान लोगों से इसे गुप्त रखें अौर अपने कार्य को करने के लिए दृढ़ रहें।

loading...