मॉरिशस में बहती हैं गंगा!

मॉरिशस में बहती गंगा

भारतीय संस्कृति में गंगा नदी का महत्व तो हम सब जानते हैं. एक भी ऐसा इंसान नहीं होगा जो अपने पूर्ण जीवन में कम से कम एक बार गंगा जी में डुबकी लगाने न गया हो.

जीते जी तो ठीक है परन्तु मृत्यु के पश्चात भी, अस्थियों को माँ गंगा अपनाती है. कितने भी पाप हो पर अगर गंगा जी में पावन डुबकी लगाये तो हमारे सभी दोषों का निवारण हो जाता है.

हम हिन्दुस्तानी जहाँ कहीं भी जाते हैं, अपनी छाप छोड़ देते हैं. बहुत से देश हैं जहाँ पर हिन्दुस्तानियों की तादाद बहुत ज्यादा है, कुछ तो ऐसे देश हैं जो हमारा दूसरा घर बन गये हैं. बस इसी परंपरा के आधार पर मॉरिशस में स्थित हमारे भारतीयों ने गंगा जी का अंतिम छोर ही बदल दिया. गंगोत्री से निकली गंगा नदी का अंतिम छोर अब बनारस नहीं, परन्तु मॉरिशस हैं.

Modi in Mauritius

Modi in Mauritius

गंगा तलाव एक क्रेटर (शांत ज्वालामुखी पर स्थित) तालाब है जो सवान्ने जिला के पहाड़ी इलाके में स्थित है. यह तलाव समुंद्र तट से 1800 कि.मी. ऊपर और मॉरिशस के दिल में स्थित है. यह स्थल मॉरिशस में बसे हिन्दू भाइयों के लिए सबसे पवित्र जगह है, मानो जैसे कि यहीं इनके चारों धाम हैं. गंगा तलाव के बगल में ही शिव जी, हनुमान जी और माँ लक्ष्मी का एक भव्य मंदिर भी स्थित है. महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर सभी तीर्थयात्री अपने घर से इस तलाव तक नंगे पैर चल कर जाते है.

President at Mauratius

President at Mauratius

सन 1897 में दो पुजारी ने यह सपने में देखा की ‘ग्रैंड बस्सिन’ के तलाव का पानी जानवी से उत्पन्न हुआ और गंगा जी का एक हिस्सा बन गया. पुजारियों को आये इस सपने की खबर पुरे मॉरिशस में फ़ैल गई. इसी वर्ष तीर्थयात्री ‘ग्रैंड बस्सिन’ तक चल कर गए, तलाव में से पानी लिया और महाशिवरात्रि के पर्व पर शिव जी को अर्पित किया. इस गंगा तलाव का संचालन मॉरिशस सनातन धर्मं मंदिर संस्थान और हिन्दू महासभा करती है.

बस तब से यह परंपरा बन गयी है कि हर शिवरात्रि को श्रद्धालु गंगा तलाव तक चल कर यात्रा करते है. हाल ही में हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी ने इस तलाव में गंगा जल अर्पित किया और महादेव जी की पूजा भी की. अब यही गंगा तलाव मॉरिशस में स्थित सभी धर्मों, संप्रदाय और वर्ण के लोगों के लिए एक पवित्र भूमि बन गयी है.

हर हर गंगे!

loading...