यहां हर लड़की को बनना पड़ता है पूरे परिवार की दुल्हन!

भोपाल। भारत में जनसंख्या के आधार पर पुरुषों के तुलना में महिलाओं की संख्या काफी कम है। लड़कियों की कमी होने के कारण कई जगहों पर लड़कों को शादी के लिए ढूंढने पर भी लड़कियां नहीं मिलती हैं। ऐसा ही कुछ हाल राजस्थान और मध्य प्रदेश के बॉर्डर पर बसे एक गांव का भी है। इस गांव में लड़कियों की कमी के चलते मुश्किल से ही लड़कों की शादी हो पाती है।

लेकिन इस कमी को पूरा करने के लिए इस गांव के लोगों ने जो हल निकाला है यह वाकई बड़ा ही दिलचस्प और हैरान कर देने वाला है। यहां लड़कियों की कमी के चलते एक ही परिवार के सारे भाइयों की शादी एक ही लड़की से करा दी जाती है। इस गांव में एक दुल्हन के 8-8 पति तक हैं।

इस गांव

इस गांव की लड़कियों को करनी पड़ती है परिवार के सभी भाइयों के साथ शादी

एक लड़की की शादी परिवार के सारे भाइयों से कराने की प्रथा मुरैना गांव में लंबे अर्से से चली आ रही है। शादी के बाद लड़की बारी-बारी से अपने पतियों के पास रहती है। यहां बसे एक जाति एवं धर्म विशेष के लोगों में लड़कियों की कमी के चलते इस गांव के लोगों द्वारा यह नियम बनाया गया है।

 गांव के बनाये हुए इस नियम के अनुसार जिस भी घर में लड़कों की संख्या एक से ज्यादा है वे सभी मिलकर सिर्फ एक ही लड़की से शादी करेंगे। इसके चलते गांव के लगभग सभी घरों में एक ही बहू है जबकि उसके पतियों की संख्या एक से ज्यादा है। अगर परिवार का कोई भाई अकेले शादी कर दुल्हन लाता है तो उस पर उसके भाइयों का भी बराबर का हक होता है।

मुरैना में मुश्किल से एक-आध परिवार ही ऐसे हैं जहां किसी लड़की का एक ही पति हो। इस गांव में बीतें कुछ सालों में जिनती भी शादियां हुई हैं उनमें हर लड़की के एक से ज्यादा पति रहे हैं। कई लड़कियां तो ऐसी हैं जिनके आठ पति भी हैं।

loading...