अब पासपोर्ट बनवाने के लिए नहीं घूमना पड़ेगा एजेंट के आगे-पीछे !

मोदी सरकार कालाधन पर सख़्त कदम उठाने के बाद अब पासपोर्ट की तरफ हाथ बढ़ा रही है. अगले साल के फरवरी महीने से नए किस्म के पासपोर्ट आ जाएंगे, जो माइक्रो चिप से लैस होगें. साथ ही साथ ऐसी कई परेशानियों पर भी गौर किया गया है, जो पासपोर्ट बनावाने के दौरान लोगों के झेलनी पड़ती हैं.

सूरत के पासपोर्ट ऑफिसर कुमार नित्यानंद ने बताया कि पासपोर्ट में चिप के लग जाने के बाद लोगों को बहुत सहुलियत मिल जाएगी और पासपोर्ट से जुड़ी शिकायतें आसानी से दूर की जा सकेंगी.

लगेगी फर्ज़ी पासपोर्ट पर रोक

हेरा-फरी और तस्करी के लिए लोग फर्ज़ी पासपोर्ट का इस्तेमाल करते हैं. इस कदम के माध्यम से सरकार तस्करों पर नकेल कसेगी. एजेंटों के द्वारा नकली पासपोर्ट बना कर लोगों को विदेश भेजने का ग़ैर क़ानूनी धंधा भी बंद हो जाएगा.

पुलिस वेरिफिकेशन में नहीं लगेगा समय

पासपोर्ट बनवाने वालों के लिए पुलिस वेरिफिकेशन बहुत फजीहत वाला काम है. सबसे ज्यादा वक़्त वेरिफिकेशन में ही जाता है. एक महीने तक चलने वाले इस काम को घंटों में निपटाने की योजना बनायी जा रही है.

ज़रुरी दस्तावेज़ ऑनलाइन जमा किेए जा सकेंगे

पासपोर्ट बनाने के दौरान लगने वाले सभी ज़रुरी दस्तावेज़ों को बिना पासपोर्ट ऑफिस जाए ऑनलाइन ही सबमिट किया जा सकेगा. आधार कार्ड को भी पासपोर्ट से लिंक करने कि सुविधा दी जाएगी. पासपोर्ट ऑफिस में इस्तेमाल होने वाले सॉफ्टवेयर को भी कस्टमर फ्रेंडली बनाया जाएगा.

loading...