इस घटना से साबित होता हैं मोदी जैसा कोई नहीं !

loading...

गुरुवार को प्रधानमंत्री मोदी नोटबंदी के बाद अपने संसदीय क्षेत्र काशी में पहुंचे. काशी में पीएम मोदी ने कैंसर इंस्टिट्यूट का शिलान्यास किया और वहा के कार्यकर्ताओं से बातचीत भी की. बीजेपी ने ऐलान किया था कि कार्यक्रम में सभी कार्यकर्ताओं को अपने अपने घर से खाना लेकर जाना था. मोदीजी किसी के भी साथ भोजन का लुफ्त उठा सकते है. प्रधानमंत्री मोदी को अपने घर का खाना खिलाने के लिए सभी कार्यकर्ता अपने अपने घर से एक से एक व्यंजन तैयार करके लाये.

loading...

सभी कार्यकर्ता थैली में घर से बना भोजन लेकर आए. इस सम्मेलन में सभी कार्यकर्ताओं में अलग ही उत्साह था. कार्यक्रम के बाद जब खाना खाने का समय आया तब मोदीजी ने कहा आज मैं भी अपने घर से टिफिन लेकर आया हूं और आप सभी के साथ मैं खाना खाऊंगा. मोदी जी के इस परिवार भाव को देखकर सबने तालियाँ बजाई. इस कार्यक्रम में मोदी जी ने 35 हजार कार्यकर्ताओं के साथ डेढ़ घंटे से ज्यादा समय बिताया. सभी कार्यकर्ताओं ने मोदीजी को खाना परोसा. किसी ने खिचड़ी खिलाई, किसी ने रोटी, और किसी ने आलू-गोभी की सब्जी व गाजर का हलवा. मोदी ने सभी का खाना बड़े लुफ्त के साथ खाया. 

मोदीजी ने अपना पसंदीदा खिचड़ी को चाव से खाया और पूरा गिलास छाछ पीया. डीरेका परिसर में बूथ लेवल कार्यकर्ताओं से मिले मोदीजी. इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में राहुल गांधी, मनमोहन सिंह और चिदबंरम पर सीधा हमला बोला. मोदीजी ने नोटबंदी का विरोध करने वालों की तुलना पाकिस्तान से की. पीएम ने राहुल गांधी पर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस के एक युवा नेता (राहुल गांधी) हैं जो भाषण सीख रहे हैं. मोदीजी ने यह भी कहा कि पता चल गया है कि भूकंप कैसे आता है.

loading...