ये कबूतर बना लोगों के आकर्षण का केन्द्र, वैज्ञानिक भी हैरान !

हरिद्वार के गांव जगजीतपुर में आजकल एक कबूतर कौतूहल का विषय बना हुआ है। अन्य जंगली कबूतरों से दिखने में अलग यह कबूतर, स्थानीय लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र है।

इस बाज जैसे दिखने वाले कबूतर की चोंच सामान्य कबूतरों से तीन गुना लंबी है। जबकि सामान्य जंगली कबूतर की चोंच 1.5 सेंटीमीटर तक ही लंबी होती है।

amarujala.

पहली बार इस कबूतर को इसी साल मार्च में देखा गया था, जिसके बाद गांव के एक पंडित ने पक्षी वैज्ञानिक विनय सेठी को इस कबूतर के बारे में जानकारी दी। पक्षी वैज्ञानिकों ने इस जंगली कबूतर को जुगनू नाम दिया है।

गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के अंतर्राष्ट्रीय पक्षी वैज्ञानिक प्रो. दिनेश भट्ट और उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय के पक्षी वैज्ञानिक डॉ. विनय सेठी इस कबूतर पर नजर रखे हुए हैं।

डॉ. विनय सेठी कहते हैं कि सामान्य से तीन गुणा लंबी चोंच होने के कारण इसको अपनी गर्दन तिरछी करके दाना चुगना पड़ता है लेकिन इस कबूतर का व्यवहार अन्य कबूतरों की तरह सामान्य ही है। वहीं  प्रो. दिनेश भट्ट का कहना है कि पर्यावरणीय या अनुवांशिक कारणों की वजह से चोंच की असामान्य लंबाई हो सकती है।

loading...