ममता और उनके ‘गुंडों’ को बीजेपी ने दी धमकी,अगर किया कुछ ऐसा ?

पश्चिम बंगाल में लगातार बीजेपी दफ्तर और नेताओं पर हो रहे हमलों को लेकर अब मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी भी भारतीय जनता पार्टी के निशाने पर हैं।

New Delhi Jan 05 : करोड़ों रुपए के रोजवैली चिटफंड घोटाले में तृणमूल कांग्रेस के सांसद सुदीप बंदोपाध्‍याय की गिरफ्तारी से पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी के साथ-साथ उनकी पार्टी के कार्यकर्ता भी भड़के हुए हैं। पश्चिम बंगाल में टीएमसी के कार्यकर्ता बीजेपी दफ्तरों को निशाना बना रहे हैं। मंगलवार को बंगाल बीजेपी के दफ्तर में तोड़फोड़ की गई तो वहीं बुधवार को भी बीजेपी का एक दफ्तर फूंक दिया गया। इसके अलावा केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के घर पर भी टीएमसी कार्यकर्ताओं ने हमला करने की कोशिश की। ममता बनर्जी और तृणमूल कांग्रेस के इस हिंसक रवैऐ को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने भी उन पर करारा वार किया है। बीजेपी का कहना है कि ममता बनर्जी ये नहीं भूलना चाहिए कि आप सिर्फ पश्चिम बंगाल में हैं। हम पूरे देश में हैं।

तृणमूल कांग्रेस के हिंसक प्रदर्शन पर भारतीय जनता पार्टी के नेता कैलाश विजयवर्गीय का कहना है कि टीएमसी तो सिर्फ पश्चिम बंगाल में ही है। लेकिन भारतीय जनता पार्टी पूरे देश में है। कश्‍मीर से लेकर कन्‍याकुमारी तक भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता हैं। कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि ममता बनर्जी जहां भी जाएंगी उन्‍हें भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता मिलेंगे। उन्‍होंने सवाल किया कि अगर बीजेपी के कार्यकर्ता हिंसा पर उतारु हो गए तो क्‍या तो क्या पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी देश में कहीं पर घूम पाएंगी। कैलाश विजयवर्गीय ने ये प्रतिक्रिया तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के हमले में घायल हुए बीजेपी कार्यकर्ताओं से मुलाकात के बाद दी। उन्‍होंने कड़े शब्‍दों में ममता बनर्जी को चेतावनी दी है।

कैलाश विजयवर्गीय ने घायल कार्यकर्ताओं से अस्‍पताल में जाकर मुलाकात की। इसके बाद वो मीडियो से मुखातिब हुए। उन्‍होंने कहा कि ममता बनर्जी दिल्ली में धरना देने की बात करती हैं लेकिन, अगर हम लोग चाह लेंगे तो वो दिल्‍ली में घुस भी नहीं पाएंगी। उन्‍होंने कहा कि लेकिन, हम लोग ऐसा नहीं चाहते हैं और ना ही हिंसा में विश्‍वास करते हैं। उन्‍होंने ममता बनर्जी से अनुरोध करते हुए कहा कि आप गणतंत्र का सम्मान करें और राज्य में स्वाभाविक परिस्थिति लौटाएं। इस मौके पर उन्‍होंने पश्चिम बंगाल की पुलिस की भूमिका पर भी सवाल खड़े किए। उनका कहना था कि जिस वक्‍त बीजेपी दफ्तरोें में हमले हो रहे थे बीजेपी कार्यकर्ताओं को पीटा जा रहा था। उस वक्‍त पुलिस मूकदर्शक बनी हुई थी।

उन्‍होंने कहा कि ऐसा लग रहा है कि मानों पुलिस के संरक्षण में ही हमलावर ऐसा कर रहे हैं। कैलाश विजयवर्गीय ने इस पूरे मामले में कोलकाता पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग की। उन्‍होंने आरोप लगाया कि राजीव कुमार ने तृणमूल कांग्रेस के नेताओं और ममता के मंत्रियों को बचाने के लिए सारदा चिटफंड कंपनी के सभी सबूत और दस्तावेज गायब कर दिए हैं। ऐसे में उनकी भी सीबीआई जांच होनी चाहिए। कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि वो राजीव कुमार के खिलाफ राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह और सीबीआई को खत भी लिखेंगे। दरसअल, ममता बनर्जी केंद्र सरकार पर आरोप लगा रही हैं कि चिटफंड घोटाले में जबरन उनके नेताओं को फंसाया जा रहा है। जबकि सीबीआई इस पूरे मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर कर रही है।

loading...