भारत-जापान के बीच इस फैसले से आगबबुला हुआ चीन , डर गया पाकिस्तान !!

प्रधानमंत्री मोदी की सारी कोशिशें कामयाब होती नज़र आ रही है. जापान भारत की दोस्ती के ख़ातिर भारत के साथ एक अहम डील करने वाला है. जापान के इस फ़ैसले से दोनों देशों के बीच रक्षा संबंधों की बुनियाद ओर भी मज़बूत हो जायेंगी. जापान ने ये फ़ैसला क्या लिया चीन और पाकिस्तान की पतलून गिली हो गयी. दरअसल जापान भारत शिनमायवा यूएस-2 सर्च और बचाव एयरक्राफ्ट कम कीमत देने पर विचार कर रहा है.

 

ये एयरक्राफ्ट डील पिछले कुछ महीनों से दोनों देशों के बीच कीमत और टेक्नोलॉजी ट्रांसफर के मुद्दे पर सहमति ना होने कारण रुकी हुई थी. लेकिन अब जापान ने साफ़ साफ़ कह दिया है कि केवल पीएम मोदी की दोस्ती की ख़ातिर ये फ़ैसला लिया जा रहा है. जापान का कहना है कि भारत से दोस्ती का लिहाज़ रखते हुए उन्होंने ये समझौता किया है. जापान ने कहा है कि यह डील आर्थिक फ़ायदा उठाने के लिए नहीं है बल्कि दोस्ती निभाने के लिए है.

जापान हमेशा से भारत की मदद करता आया है. इतिहास गवाह है अंग्रेजों के खिलाफ नेताजी सुभाषचंद्र बोस की मदद जापान ने की थी और अब चीन और पाकिस्तान के खिलाफ़ जापान मोदीजी की मदद कर रहा है. जापान और भारत दोनों देश चीन की करतूतों से परेशान है इस एयरक्राफ्ट के जरिये चीन पर सख्ती बरती जा सकेगी. भारत के साथ विचार विमर्श जारी है. जापान से जितनी कम कीमत हो सकेगी वो करेगा. जापान के रक्षामंत्रालय के एक अधिकारी का कहना है कि इस समझौते से दोनों देशों के संबंधों पर प्रतिकूल असर पड़ेगा.

इस साल टोक्यो में होने वाले सालाना शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी इस डील का जिक्र करने वाले है. शिनमायवा यूएस-2 की अपनी अलग खूबियाँ है, इसे टेक ऑफ करने में बहुत कम समय लगता है. अगर ये डील सफलतापूर्वक हो जाती है तो भारत इस एयरक्राफ्ट को अंडमान निकोबार में तैनात करेगा.

loading...
loading...