हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में रहते हैं, लेकिन वोट देते समय जाती देखते हैं, पैसे देखते हैं, अपना निजी स्वार्थ देखते हैं, कौन कितनी दारू पिला